Monday, July 3, 2017

इकबालिया बयान





इकबालिया बयान


मैंने उस दिन कुतुहलवश ही सही
तुमसे पूछ लिया था
क्या तुम और तुम्हारे बच्चे
महाभारत रामायण की कहानियों के बारे में
जानते हैं
तुमने मुस्कुराकर पूरी शालीनता से कहा था
अरे! यह भी कोई बात है!!
बचपन से ही टुकड़ों में ही सही
इन कहानियों को सुनता आया हूँ
पिछले सप्ताह ही तो छोटा वाला जन्माष्टमी पर
कृष्ण-सुदामा वाले प्रहसन में
अपने स्कूल में कृष्ण की भूमिका खेलकर आया है
मैं शुक्रगुज़ार हूँ तुम्हारा
कि उसके बाद तुमने मेरे संग
मौसम के बदलाव पर पूरी तन्मयता से बातचीत की
और मुझे किसी असहज स्थिति से बचा लिया
जो तुम्हारे क़ुरान अथवा इस्लाम संबंधी
मेरे लिए किसी जबाबी सवाल से
मुझे हो सकती थी

कुमार विक्रम