Friday, August 12, 2016

इस प्रतिक्रियावादी समय में



इस प्रतिक्रियावादी समय में 

कब हम सब उनकी ही तरह बोलने लगते है 
इसका इल्म हो पाना भी लगभग मुश्किल है 
ईंट का जबाब पत्थर से देने का सुरूर 
आँख के बदले आँख की भावना
झूठ और सच के फाँक के बीच फंसकर रह जाना 
बातों की पूँछ पकड़ कर गंगा पार कर जाना
कोरस का हिस्सा बनकर जीना  
दरअसल धीरे धीरे काले बादल की तरह 
हम सबको वो आगोश में लेने लगते हैं 
कुछ वैसे ही जैसे 
कोई मादक वस्तु उसका सेवन करने वालों के बीच 
कोई फर्क नहीं करती है 
और सबके सर चढ़ कर एक ही बोली बोलने लगती है

 कुमार विक्रम    

No comments:

Post a Comment

To Father: A Poem

To Father Sometimes you should pick up poetry And read them aloud Feel the sound of words Search for their varied meanings In dictionaries a...