Friday, July 29, 2016

जब मैं महान कवितायें लिखता था




जब मैं महान कवितायें लिखता था


यह तब की बात है
जब मैं महान कवितायें लिखता था
और खुद उन्हें पढ़ कर 
अभिभूत सा रहता था
कुछ कुछ धुंधला सा
ख्याल आता है कि
विश्व के हर कोने से
कवि-वर मुझसे कविता
और काव्य शास्त्र सीखने आते थे
अब न वो मैं रहा
न ही मेरी कविताई रही
न ही मेरे शब्दों में कोई तरुणाई रही
रह गयी तो सिर्फ उन शब्दों की ऐंठन
जिनसे मैं अब सबको बांध कर
पुनः अपने लिए
एक महाकाव्य रचना चाहता हूँ

कुमार विक्रम